Malaria Treatment in Hindi | Malaria Symptoms, Prevention with Home remedies

Malaria Treatment in Hindi
Malaria Treatment in Hindi

Malaria Treatment in Hindi | Malaria Treatment with Home remedies | मलेरिया के लक्षण और बचाव घरेलू उपचार

Introduction

दोस्तों बारिश का मौसम चारों ओर खुशनुमा माहोल लेकर आता है, हरियाली लेकर आता है लेकिन साथ हे बारिश का मौसम कई सारी बीमारियों को भी लेकर आता है। बारिश के बार बारिश के जमा हुए पनि में कई प्रकार के मच्छर पैदा होते है और उनसे कई जानलेवा बीमारियाँ फैलती है। मलेरिया ( Malaria Treatment in Hindi ), डेंगू, स्वाइन फ्लू कुछ ऐसी हे बीमारियाँ है जो अभी वर्तमान में काफी तेजी से फैल रही है और काफी लोगों की जान ले चुकी है।

बारिश के जमा पनि में पैदा होने वाले, पनपने वाले मच्छरों के काटने से मलेरिया होता है और मलेरिया का सही समय पर उपचार पर यदि उपचार नहीं कराया जाए तो व्यक्ति की जान भी जा सकती है।

natural cure for malaria

तो आज हम बात करेंगे मलेरिया रोग के बारे में (malaria treatment in Hindi ) जी हां दोस्तों मलेरिया रोग क्या है इसके क्या लक्षण है और आप कुछ घरेलू आयुर्वेदिक उपाय से किस प्रकार से मलेरिया का इलाज कर सकते हैं या मलेरिया से बच सकते हैं।

malaria treatment in Hindi

देखिये दोस्तों मलेरिया एक संक्रामक रोग है जो Protozoa  परजीवियों के  द्वारा फैलता है लगभग 52  करोड लोगों को संक्रमित करता है, जिसके कारण लगभग 30 से 40 लोगों की मृत्यु हो जाती है।  तो मलेरिया के लक्षणो को जानना बेहद आवश्यक है, क्योंकि मलेरिया एक जानलेवा बीमारी है यदि आप मलेरिया के लक्षणों को जान जाते हैं, समझ जाते हैं तो काफी संभव है कि आप मलेरिया होने पर उसका  समय पर उचित इलाज करा पाए और अपनी जान बचा पाए और अपना स्वस्थ जीवन जी पाए।  

 तो सबसे पहले बात करते हैं मलेरिया के लक्षणों के बारे में malaria symptoms in Hindi

Malaria Treatment in Hindi
Malaria Treatment in Hindi

 मलेरिया का सबसे बड़ा और पहला लक्षण है कि जो व्यक्ति मलेरिया से पीड़ित होता है उसे तेजी से सर्दी लगने लगती है, उसका पूरा शरीर कांपने लगता है और दूसरा लक्षण है सर्दी के साथ उसे प्यास लगती है, कभी-कभी उल्टी जैसा महसूस होता है या  फिर उल्टी हो जाती है हाथ पैर मेन ठंड अधिक लगती है और साथ में बेचैनी होने लगती है,

 मलेरिया के रोगी को कब्ज (Diabetes ), घबराहट और बेचैनी जैसे symptoms आते हैं और साथ में मलेरिया के कुछ सामान्य लक्षण भी होते हैं, जैसे बदन और सिर में तेज दर्द होना, उल्टि आना, कब्ज ( Diabetes ) जैसा महसूस होना, हाथ पैरो मे एथन जाना, यदि आप खून की जांच कराते हैं तो आप पाएंगे कि मलेरिया होने पर प्लेटलेट कम हो जाती है, तो प्लेटलेट कम हो जाना, त्वचा पर लाल रंग के चकत्ते होना, भूख में कमी आ जाना, जी मचलना ये सभी कुछ ऐसे लक्षण है जो प्रकट करते हैं कि कहीं न कहीं आप मलेरिया के चपेट में आ चुके हैं।

signs of malaria

 तो यदि आपको इस प्रकार symptoms के इस प्रकार के लक्षण किसी में अपने परिवार जन में या स्वयं में नजर आते हैं तो आपको आवश्यकता है शीघ्र ही मलेरिया की जांच करवाने की और किसी अच्छे चिकित्सक को दिखने की।  मलेरिया की जांच एक साधारण खून की जांच से की जा सकती है।

 तो दोस्तों बुखार किसी भी तरह का हो सकता है तो बुखार आने पर जरूरी है कि तुरंत ही आप खून की जांच करवाएं कहीं मलेरिया तो नहीं है।  कई बार मलेरिया के लक्षण प्रकट नहीं होते हैं और बाद में पता चलता है कि रोगी मलेरिया से ग्रस्त था समय पर समुचित इलाज ना मिल पाने के कारण रोगी की मृत्यु हो जाती है।

natural remedies for malaria prevention

   कुछ घरेलू उपाय कुछ आयुर्वेदिक उपचार के द्वारा भी आप मलेरिया से बच सकते हैं दोस्तों, इस पोस्ट में जानकारी मात्र आपकी की ज्ञान वर्धन के लिए है। आप इन उपायों को अपनाने से पहले किसी अच्छे चिकित्सक या किसी आयुर्वेदिक वैद्य की सलाह ले सकते हैं। और यदि आपके खून की जांच मे मलेरिया स्पष्ट रूप से आता है तो आपको किसी अच्छे चिकित्सक से इलाज करना चाहिए और साथ मे आप इन आयुर्वेदिक उपायओं को भी अपना सकते है जिनसे आप जल्दी ही स्वस्थ हो पाएंगे और यदि आप मलेरिया से ग्रस्त नहीं है तो आप यदि इन उपायों को बुलाते हैं तो आप मलेरिया से बच सकते हैं। आइये सुरू करते है और सबसे पहला उपाय जानते हैं।

malaria treatment in Hindi | malaria home treatment in Hindi | malaria ka ayurvedic ilaj | malaria fever treatment in hindi

Tulsi as natural remedies for malaria prevention:

Malaria Treatment in Hindi
Malaria Treatment in Hindi

 पहला उपाय हैं तुलसी के पत्ते तुलसी अति पवित्र मानी जाती है हर घर में तुलसी होती है तुलसी का पौधा भारतीय परंपराओं के अनुसार तुलसी को देवी का, माता का रूप माना जाता है और दोस्त दोस्ती तुलसी में कई तरह के एंटी बायोटिक्स होते हैं जो हमें कई रोगों से बचाता है। मलेरिया होने पर तुलसी के पत्तों का सेवन मलेरिया के प्रभाव को तेजी से समाप्त करता। तो इसके लिए आप सुबह शाम खाली से तुलसी के 4-5  पत्ते अच्छी तरह से चबाकर खाइए और आप पाएंगे कि थोड़ी देर में आप पाएंगे की आपका मलेरिया का बुखार उतर गया है.  यदि आप नियमित रूप से तुलसी के पत्तों का सेवन करते हैं तो सभी प्रकार के इंफ्लुएंज़ा से बच सकते हैं।

हिंग का लेप malaria treatment home remedies
:

Malaria Treatment in Hindi
Malaria Treatment in Hindi

 अगला उपाय है हिंग का लेप, जी हां दोस्तों मलेरिया को जल्द ठीक करने के लिए आप 10 ग्राम पानी उबाल लें और इसमें 2 ग्राम हींग डालकर उसका लेप बना लीजिये अब इस लेप को हाथ पैर और  और नाखून पर लगाइए 4 दिनों तक लगातार नियमित रूप से ऐसा करने से रोगी जल्दी ठीक होता है।

छाछ का सेवन :

Malaria Treatment in Hindi
Malaria Treatment in Hindi

 दोस्तों मलेरिया के बुखार से परेशान इंसान को नियमित रूप से छाछ का सेवन करना चाहिए। बार-बार मलेरिया के बुखार आने पर नियमित सेवन करने से मलेरिया बुखार तुरंत ही उतर जाता है।

भुना हुआ नमक :

Malaria Treatment in Hindi
Malaria Treatment in Hindi

मलेरिया का बुखार आने पर आने वाले नमक की पांच चम्मच को आप तवे पर तब तक सेक लीजिए जब तक उसका रंग पूरा ना हो जाए और फिर उसकी एक चम्मच को 1 गिलास पानी में मिलाकर पीने से मलेरिया का बुखार समाप्त हो जाता है।  लेकिन दोस्तों यदि आप किसी ऐसी बीमारी से ग्रस्त हैं, जिसमें नमक आपका बंद किया हुआ है जैसे हाई ब्लड प्रेशर ( High Blood Pressure ) और अन्य कोई बीमारी है जिसमे आपको नमक बंद किया हुआ है तो कृपया नमक का यह उपाय ना करें।

सेब (apple):  

Malaria Treatment in Hindi
Malaria Treatment in Hindi

Apple मे सभी प्रकार के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने वाले तत्व होते है, तो  नियमित रूप से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।  मलेरिया होने पर यदि आप सेब ( Apple ) का अधिक से अधिक सेवन करते हैं तो मलेरिया का प्रभाव कम होता है।

नींबू पनि ( Lemon Water ) :

नींबू पनि ( Lemon Water )
नींबू पनि ( Lemon Water ) :

 lemon water नींबू पानी मे बहुत सारे ऐसे तत्व होते है जो तेजी से बुखार का असर, मलेरिया का असर, डेंगू का असर कम करता है। तो नियमित रूप से आप नींबू पनि या नींबू का सेवन करिए इससे आपके मलेरिया का बुखार तुरंत उतार जाएगा। और यदि आप नियमित रूप से नींबू पनि का सेवन करते है तो यह आपको कई प्रकार की बीमारियों से भी बचाता है। नींबू पनि के नियमित सेवन से आपकी किडनी स्वस्थ रहती है filtration सही रेहता है और इस प्रकार आप अपने शरीर के जहरीले तत्वों को आसानी से बाहर निकाल पाते हैं।

काली मिर्च ( Black Pepper ) :

black pepper
black pepper

 दोस्तों अगला उपाय है काली मिर्ची, जी हाँ दोस्तो काली मिर्च में भी मलेरिया के बुखार को दूर करने के अद्भुत गुण होता है, तो पांच कालीमिर्च और 50 ग्राम नीम की पत्तियों को आप बारीक पीस लें और फिर से एक कप में छानकर थोड़ा-थोड़ा आप रोगी को दीजिए और ऐसा करने से मलेरिया जड़ से समाप्त हो जाता है।  पिसी हुई काली मिर्च और नमक को नींबू में लगाकर मलेरिया के रोगी को चूसने के लिए दीजिए, ऐसा करने से भी बुखार की गर्मी उतर जाती है। दिन में दो-तीन बार इसका सेवन किया जा सकता है इसके नियमित सेवन से मलेरिया बुखार नहीं होता। और यदि मलेरिया बुखार हो गया है तो जल्दी ही ठीक होने लगता है।

दालचीनी :  

दालचीनी
दालचीनी :  

अगला उपाय है दोस्तों दालचीनी का इस्तेमाल, जी हाँ दोस्तों मलेरिया के बुखार में दालचीनी काफी फायदेमंद आयुर्वेदी औषधि मनी जाती है।  तो मलेरिया के बुखार से बचने के लिए आप एक गिलास पानी में एक चम्मच शहद और आधा चम्मच काली मिर्च और एक चम्मच दालचीनी का पाउडर मिलाकर इसे ठीक से उबाल लीजिए।  दोस्तों शहद आपको उबालना नहीं है शहद आपको जब आपका यह मिश्रण ठंडा हो जाए तब मिलाना है तो काली मिर्च दालचीनी को मिलाकर आप ठीक से उबाल लीजिए और फिर इसमें एक चम्मच शहद की मिलाकर मलेरिया के रोगी को पिलाने से बुखार में तुरंत ही राहत मिलेगी।

प्याज का रस ( Onion Juice For maleria) :

Onion Juice For maleria
Onion Juice For maleria

 दोस्तों अगला उपाय है प्याज का रस, जी हां दोस्तों प्याज का रस मलेरिया के बुखार के जीवआड़ुओं को तेजी से समाप्त करता है। तो इसके लिए आप प्याज के रस में एक चुटकी काली मिर्च का चूर्ण मिलाये और सुबह, शाम, और रात यानि दिन में तीन बार मलेरिया के रोगी को इसे पीने के लिए इसके नियमित प्रयोग से मलेरिया के बुखार में आराम मिलता है।

लहसुन का रस ( Garlic Juice ) :

Malaria Treatment in Hindi
लहसुन का रस ( Garlic Juice ) :

 दोस्तों लहसुन का रस, जी हां दोस्तों लहसुन एक नेचुरल एंटीबायोटिक है, एक नेचुरल एंटीइन्फ्लेमेटरी है। लहसुन में और भी कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने के अद्भुत गुण पाए जाता है। तो मलेरिया के बुखार को दूर करने के लिए आप लहसुन का प्रयोग कीजिए, एक चम्मच लहसुन के रस में एक चम्मच तिल का तेल मिलाकर आप अपने हाथ पैरों के नाखूनों पे लगाइए। इसके अलावा लहसुन का एक दूसरा उपाय भी है लहसुन की 4 कलियां छील लीजिये और इसे घी मे मिला लीजिये  और फिर इसका सेवन करिए ऐसा करने से मलेरिया की गर्मी उतर जाती है।

मलेरिया मे क्या क्या टेस्ट होते है आइए जान लेते है ( Malaria Test ):

मलेरिया होने पर डॉक्टर आपसे PCR टेस्ट लारवाएगा या फिर CARD टेस्ट किया जा सकता है या फिर QBC भी कराया जा सकता है।QBC मे आपको प्लेटलेट्स और आपको ब्लड से related ब्लड counting से related जांच की जाती है। मलेरिया रोग मे यदि आप चिकित्सकीय दवाओं के साथ साथ ये दवाओं को अपनाते है तो इसकी कोई side affect नहीं है और आपका बुखार आपका रोग तेजी से ठीक होने लगता है।

मलेरिया से कैसे बचे ( malaria prevention in Hindi ) :  

लेकिन दोस्तों लेकिन दोस्तों जागरूकता आवश्यक है, कोशिश करिए कि आपके घर के आस-पास मलेरिया के मच्छर पनपे ही न। क्योंकि दोस्तों इलाज से ज्यादा अच्छा है कि आप पहले से ही वह उपाय करें जिनसे रोग ही ना हो। तो जागरूकता आवश्यक  है, अपने घर के आसपास बारिश के पानी को जमा ना होने दीजिए। और यदि पानी किसी कारण से जवाब ही हो गया तो उसमें आप जला हुआ तेल डालिए।  जो आपकी मोटरसाइकिल से जो जला हुआ तेल (oil ) निकलता है आप अपने दुकानदार से कहिए कि वह आपको वापस से दे दे । और इस ऑइल को आप जिस स्थान पर पानी जमा है उस गड्ढे मे आप उस ऑइल को उसमे दल दीजिये तो पूरे पानी मे ऑइल की लेयर जमा हो। और दोस्तो जब किसी पानी में ऑइल की लेयर होती है तो वहां मलेरिया के बच्चे बड़े नहीं हो पाते हैं यानी कि मच्छर वहां पनपते नहीं है मच्छर जो बच्चे वहां देते हैं।

natural remedies for malaria prevention

तो इस प्रकार से आप मलेरिया और अन्य मौसमी बीमारियों से बच सकते हैं तो आपको केवल इतना ध्यान रखना है और साथ ही प्रयास कीजिए कि मलेरिया, डेंगू के मच्छर आपके घर में प्रवेश ना करें। इसके लिए आप घर को अच्छे से बंद रखिए हो सके मच्छर जाली का दरवाजा बनवा के रखिए तो इस प्रकार से और मलेरिया से बच सकते हैं। दोस्तों आपसे यही अपील है बचाव ही उपचार समझते हुए आप पहले से ही ऐसी तैयारियां करके रखिए, क्योंकि मलेरिया   एक जानलेवा रोग है और जब किसी के घर से बेवजह ही केवल मलेरिया के कारण जाती है तो उसका दुख दर्द वही समझ सकता है।

तो दोस्तों आज के घारकेनुस्खे मे बस इतना ही अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर शेयर करिए ताकि उन्हे भी इस बीमारी के बारे मे पता चले और वे भी इसका उपचार कर सके और बच सके। ये पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद ।

Aap Hamare Facebook Page Ko Bhi Follow Kar sakte hai @Gharkenuskhe.online par

Follow Us On Instagram @Gharkenuskhe.online Click Here

Piles home remedies in Hindi – Causes and Treatment- 100% natural

Piles home remedies in Hindi – Causes and Treatment- 100% natural

Learn more 5 Best Teeth Sensitivity Home Remedies In Hindi

5 Best Teeth Sensitivity Home Remedies In Hindi

Learn more Malaria Treatment in Hindi | Malaria Symptoms, Prevention with Home remedies

Malaria Treatment in Hindi | Malaria Symptoms, Prevention with Home remedies

Learn more

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*